सेंसेक्स क्या होता है और कैसे बनता है विस्तार से जानिए हिन्दी मे


Sensex in Hindi : अगर आप TV पर समाचार देखते है या रोज अखबार पढ़ते है तो आप Sensex शब्द को कई बार सुनते होंगे। लेकिन क्या आप जानते है की ये सेंसेक्स क्या है (What is Sensex in Hindi)?, इसका Stock Market मे क्या महत्व है ? और इसके गिरने पर हड़बड़ी क्यूँ मच जाती है? 

वैसे तो आपने कई बार ऐसा सुना होगा की आज सेंसेक्स इतने अंक ऊपर गया या नीचे आया। लेकिन क्या आप जानते है की ये sensex क्या होता है और ये ऊपर नीचे कैसे आता है ?

sensex,what is sensex in hindi,sensex kya hai,sensex kya hota hai,sensex kaise banta hai,top 30 sites in sensex
सेंसेक्स क्या होता है और कैसे बनता है - Sensex in Hindi



अगर आप शेयर बाज़ार मे निवेश करते है या फिर इसमे निवेश करने का मन बना रहे है तो आपको sensex और nifty के बारे मे पूरी जानकारी होनी बहोत जरूरी है। 




तो चलिए जानते है की ये सेंसेक्स क्या है इसके बारे मे विस्तार से। 

सेंसेक्स क्या होता है (Sensex in Hindi)


Bombay Stock Exchange ( मुम्बई स्टॉक एक्सचेंज ) के संवेदी Index को Sensex कहते है। इसको संक्षेप मे बीएसई (BSE 30) और बीएसई सेंसेक्स ( BSE Sensex के नाम से भी जाना जाता है। इसमे BSE मे Registered Top 30 Company के शेयरों की गणना की जाती है। इसकी ही तरह की India ने दूसरा Nifly है, जिसमे NSE के Top 50 Company के शेयरों की गणना की जाती है। 

Sensex इस शब्द की शुरुआत Deepak Mohini, जो की एक Stock Market Analyst है उन्होने की की थी। ये शब्द Sensitive  और Index को mix करके Sensex बनाया गया है। जिसका हिन्दी मे अर्थ संवेदी सूचकांक होता है। 

Sensex हमारे भारतीय शेयर बाज़ार का BenchMark index है, जो हमारे देश मे मार्केट मे चल रही मंडी और तेज़ी को बताने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस के जरिये हम Stock Market की top company के साथ सारे मार्केट का प्रदशन कैसा चल रहा है वो जान सकते है। 

Bombay Stock Exchange India का सबसे पुराना Stock Market है और Sensex सबसे पुराना स्टॉक मार्किट इंडेक्स है, जिसकी शुरुआत 1986 मे हुई थी। 

Sensex का महत्वपूर्ण काम ये है की ये यह शेयर बाज़ार मे registered कंपनियों के सभी shares के भाव पर नजर रखता रहे और फिर पूरे दिन के काम के बाद एक औसत value दे जिस से हमे शेयर बाज़ार मे listed कंपनियों के भावों मे आने वाली तेज़ी और मंडी की सूचना हमको मिल सके। 

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)  मे कुल 5000 company listed है और इसमे भारत की मुख्य 30 company आती है। इन मुख्य कंपनियों का market capitalization बहोत बड़ा है अभी के समय की बात करे तो ये भारत की अर्थ व्यवस्था मे 37 % का हिस्सा है। ये कंपनिया Indian बाज़ार मे trend सेट करने का काम करती है। इसलिए इनके शेयरों बढ़ते और गिरते भाव पर पूरा मार्केट प्रभावित होता है। 

Sensex कैसे बनता है


अब तक आपको ये तो समाज मे आ गया होगा की सेंसेक्स क्या है अब जानते है की ये सेंसेक्स बनता कैसे है। 

जैसा की हमने जाना की सेंसेक्स एक सूचक अंक (index) है और वो Bombay Stock Exchange की मुख्य तीस company के शेयरों के आधार पर निर्धारित किया जाता है। तो अब समजते है की ये अंक कैसे बनता है। 

Sensex की गणना कैसे की जाती है 


Sensex की गणना Free-Flot कार्यप्रणाली से की जाती है |

Free-Float शेयर : निवेशकों की शेयरहोल्डिंग जो सामान्य तोर में व्यापार के लिए खुले बाजार में नहीं आती हैं उन्हें 'नियंत्रण / सामरिक होल्डिंग्स' (Controlling/ Strategic Holdings) के रूप में माना जाता है और इसलिए Free-Float में शामिल नहीं किया जाता है। विशेष रूप से, होल्डिंग की निम्नलिखित श्रेणियां आम तौर पर Free-Float की परिभाषा से बाहर की जाती हैं:

संस्थापक / निदेशकों / अधिग्रहकों द्वारा रखे गए शेयर जिनमें नियंत्रण तत्व है

सरकार द्वारा प्रमोटर / अधिग्रहणकर्ता के रूप में आयोजित शेयर

कर्मचारी कल्याण ट्रस्ट द्वारा आयोजित इक्विटी

आम तौर पर प्रमोटरों का हिस्सा अथवा सरकार का हिस्सा पूँजी में से निकाल दें तो बाकी बची पूँजी बाजार में बिकने के लिए उपलब्ध हो सकती है.

Sensex की गणना समाजने के लिए आपको Market Cap को समजना बहोत जरूरी है। 

Market Capitalization अथवा बाजार पूंजीकरण की गणना इस प्रकार से की जाती है। 

बाजार पूँजी = कुल बकाया शेयर X प्रति शेयर बाजार भाव

exmaple : XYZ का कुल शेयर 1,00,000 है और उनका भाव Rs. 35 है तो उसका Market Cap,

1,00,000 X रु 35 = रु 35,00,000 होगा। 

अब sensex का अंक प्राप्त करने के लिए मुख्य तीस company के market cap का इस्तेमाल किया जाता है। 

exmaple के तौर पे आज अगर 30 company का market cap 4,18,000 है तो sensex इस तरह से गिना जाएगा। और बीते हुए कल 3,33,000 थी। और base value हम 100 मान के चलते है। 

Sensex = ( आज का Market Cap * बेस वैल्यू ) / कल का Market Cap

तो 

Sensex = ( 4,18,000 * 100 ) /  3,33,000 

तो आज का sensex 125.5 होगा।  

Sensex मे कंपनियों का चुनाव कैसे किया जाता है 


Sensex मे सामील होने वाली company का market cap बड़ा होता है ये हमने जाना अब जानते है इसके और कोन कोन से factor है। 

1. Sensex मे शामिल होने के लिए कंपनी BSE मे एक साल से या उससे अधिक समय से listed होनी चाहिए। 

2. बीते जुए साल मे उस company के शेयरों की हर दिन कुछ खरीद बेच होना जरूरी है। 

3. प्रति दिन होने वाली average tread की संख्या और value के हिसाब से ये देश की सबसे बड़ी 150 कंपनियो मे शामिल होनी चाहिए।  

इन सभी बातों के अलावा कई और factors का ध्यान रखते हुए company का चुनाव किया जाता है। 

Sensex मे सामील Top 30 Company की list


Sensex मे 1986 मे पहली बार मुख्य तीस company को शामिल किया गया था। आज की तारीख मे नीचे दी गयी Top Comapany के आधार पर sensex की गणना की जाती है। ये सभी कंपनियां वित्तीय रूप से काफी मजबूत और मार्किट कैप के हिसाब से भी बहुत बड़ी होती है। 

इनके शेयरों की मांग बाज़ार मे हमेशा बनी रहती है। इन company को 'blue chip' भी कहा जाता है। 

1. Asian Paints Ltd.

2. Axis Bank Ltd.

3. Bajaj Auto Ltd.

4. Bajaj Finance Ltd.

5. Bharti Airtel Ltd. 

6. Coal India Ltd.

7. HCL Technologies Ltd.

8. HDFC Bank Ltd.

9. Hero MotoCorp Ltd.

10. Hindustan Unilever Ltd.

11. Housing Development Finance Corporation Ltd.

12. ICICI Bank Ltd.

13. IndusInd Bank Ltd.

14. Infosys Ltd.

15. ITC Ltd.

16. Kotak Mahindra Bank Ltd.

17. Larsen & Toubro Ltd.

18. Mahindra & Mahindra Ltd.

19. Maruti Suzuki India Ltd.

20. NTPC Ltd.

21. Oil & Natural Gas Corporation Ltd.

22. Power Grid Corporation Of India Ltd.

23. Reliance Industries Ltd.

24. State Bank Of India

25. Sun Pharmaceutical Industries Ltd.

26. Tata Consultancy Services Ltd.

27. Tata Motors - DVR Ordinary

28. Tata Motors Ltd.

29. Tata Steel Ltd.

30. Vedanta Ltd. 

31. Yes Bank Ltd.

ये लिस्ट BSE की Official Site से ली गयी है। वक़्त वक़्त पर इन company मे बदलाव भी किया जाता है। 

Sensex के Advantages 


सेंसेक्स के बारे मे जानने के सबसे बड़ा फायदा ये है की आप इससे मार्केट की उतार चढ़ाव को आसानी से समाज सकते है। अगर आप निवेश करना चाहते है तो आपको मार्केट मे चलने वाली मंडी और तेज़ी का पता चलता है। 

इसके अलावा sensex पर नजर बनके रखने से आपको बहोत सारे indirect लाभ होता है। अगर किसी sector की अगर main company अच्छा प्रदशन नहीं करती है तो उसका असर बाकी सभी company पे पड़ता है। अगर आप सेंसेक्स के बारे मे पता करते है तो आप इस बात का ध्यान रख सकते है। 

आपके निजी निवेश पर सेंसेक्स का असर क्या होता है 


अगर आप एक stock market investor है तो आपको अपने portfolio पर नजर बनाए रखना बहोत जरूरी है, और आप रखते ही होंगे। अगर sensex अच्छा प्रदशन कर रहा होगा तो आपके शेयरों मे भी उछाल आया होगा। अगर ऐसा नहीं होता तो आपको index मे listed शेयरों मे निवेश करना चाहिए। 

इसके अलावा आप को कोन से sector मे निवेश करना चाहिए उसका भी पता इससे चल जाएगा। और आप market से up to date रहेंगे। 

Sensex क्या है और ये कैसे काम करता है इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। अगर आप share bazar, mutual fund और investment के बारे मे हर रोज कुछ नया सीखना चाहते है तो Pro Money Hindi पर visit करते रहिए। 


No comments :

Post a Comment